बैठक में स्वर्गीय झाखड़ी वार्ड की जिला परिषद सदस्य कविता कंटु के आकस्मिक निधन पर शोक व्यक्त किया गया तथा 2022-23 वित्तीय वर्ष के 15वें वित्तायोग के शेल्फ पारित किए गए। बैठक में सदस्यों द्वारा सड़क, विद्युत, पेयजल, बागवानी व स्वास्थ्य संबंधित विषयों पर अपने क्षेत्रों के प्रश्न पूछे गए तथा गहनता से प्रश्नों पर विस्तृत चर्चा की गई।
जिला परिषद सदस्य त्रिलोक भलूनी ने लूहरी प्रोजेक्ट द्वारा स्थानीय ग्रामीणों की समस्याओं की अनदेखी का मामला उठाया तथा एसजेवीएनएल अधिकारियों को उचित कार्यवाही करने का आह्वान किया, जिससे विस्थापितों के हितों की रक्षा की जा सके।


जिला परिषद सदस्य सुभाष कैंथला ने विकास खण्ड नारकण्डा की पंचायतों को प्रोजेक्ट प्रभावित क्षेत्रों में जोड़ने का मुद्दा उठाया, जिससे प्रोजेक्ट के कारण होने वाले नुकसान की भरपाई हो सके। जिला परिषद सदस्य भारती जनारथा ने सिविल अस्पताल रोहडू की स्वास्थ्य सुविधाओं के अभाव तथा प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्रों में रिक्त पदों का मामला उठाया, ताकि ग्रामीण लोगों को घरद्वार पर उचित स्वास्थ्य सुविधाएं उपलब्ध हो सके। जिला परिषद सदस्य नीमा जस्टा ने चौपाल के विभिन्न रमणीय स्थानों को पर्यटन की दृष्टि से विकसित करने बारे प्रश्न उठाए तथा इन क्षेत्रों में मूलभूत सुविधाओं के अभाव का मामला पर्यटन विभाग के अधिकारियों से उठाया तथा शीघ्र समाधान की मांग की।


जिला परिषद सदस्य अनिल काल्टा ने प्रचण्ड ठण्ड के दौरान बेसहारा पशुओं की हालत का मामला उठाया तथा पशुपालन विभाग के अधिकारियों से गौ सदनों के उचित रखरखाव की मांग की, जिससे शीतलहर के दौरान उनकी दयनीय हालत से उन्हें निजात मिल सके। जिला परिषद सदस्यों द्वारा 2021-22 मनरेगा की शेल्फों को भी पारित किया गया और अन्य जन समस्याओं पर गहनता से विचार विमर्श किया गया। इस अवसर पर अतिरिक्त उपायुक्त एवं सीईओ जिला परिषद शिमला किरण भड़ाना ने बैठक का संचालन किया और सदस्यों के प्रश्नों का उतर दिया। इस अवसर पर उपाध्यक्ष जिला परिषद सुरेन्द्र रेटका, एएसपी शिमला सुशील शर्मा, जिला पंचायत अधिकारी विजय बरागटा व विभिन्न विभागों के अधिकारीगण भी उपस्थित थे।

By admin

Leave a Reply

%d