SAMNA NEWS

शूलिनी यूनिवर्सिटी ने 100 का एच-इंडेक्स किया हासिल

सोलन, 14 जनवरी, 2023: देश के अग्रणी शोध-आधारित विश्वविद्यालयों में से एक, शूलिनी यूनिवर्सिटी ने 100 का एच-इंडेक्स हासिल किया है, जिससे यह उत्तर भारत में सर्वोच्च और 2008 के बाद स्थापित संस्थानों में देश में दूसरे स्थान पर है। जबकि पहले स्थान पर आईआईटी इंदौर है। एच-इंडेक्स क्वालिटी रिसर्च को दर्शाता है और इसकी गणना रिसर्च पेपर्स  की संख्या के बराबर साईटेशन की संख्या के आधार पर की जाती है। एच-इंडेक्स की गणना स्कोपस इंडीकेटर्स के आधार पर की जाती है, जिसे एकेडेमिक लिटरेचर के लिए सबसे प्रतिष्ठित सार और साईटेशन डेटाबेस माना जाता है। शूलिनी यूनिवर्सिटी के 100 एच-इंडेक्स का तात्पर्य है कि उसके 100 शोध पत्रों को कम से कम 100 बार या उससे अधिक बार प्रमाणित किया गया है। यह पैरामीटर यूनिवर्सिटी की स्थापना कब की गई थी, पर भी निर्भर करता है।


हाल ही में, टाइम्स हायर एजुकेशन वर्ल्ड यूनिवर्सिटी रैंकिंग 2023 ने शूलिनी यूनिवर्सिटी को विश्व स्तर पर 351-400 के बैंड में और भारत में दूसरे स्थान पर रखा, जिसमें केवल आईआईएससी बैंगलोर शूलिनी आगे है। साईटेशनस (रिसर्च इन्फ्लुएंस) में, शूलिनी यूनिवर्सिटी को विश्व स्तर पर 39वां स्थान दिया गया है और भारत में 1। यूनिवर्सिटी के चांसलर प्रो. पी.के. खोसला ने कहा कि यह उपलब्धि अनुसंधान की गुणवत्ता और यूनिवर्सिटी में स्कॉलर्स द्वारा किए गए समर्पण और कड़ी मेहनत को दर्शाती है। उन्होंने कहा कि स्कोपस डेटाबेस के अनुसार, प्रकाशनों की कुल संख्या अब 2880 है और साइटेशन 53,687 हैं। उन्होंने कहा कि यूनिवर्सिटी अनुसंधान कार्य पर जोर देना जारी रखेगा और स्नातक स्तर पर इसे बढ़ावा देगा।


प्रो-चांसलर विशाल आनंद ने कहा कि  100 का एच इंडेक्स शूलिनी यूनिवर्सिटी के शोधकर्ताओं द्वारा किए गए शोध कार्य की गुणवत्ता और प्रासंगिकता को स्पष्ट रूप से दर्शाता है। यह किसी भी अकादमिक और शोध संस्थान के लिए एक महत्वपूर्ण मील का पत्थर भी है। “हमें गर्व है कि शूलिनी एक युवा यूनिवर्सिटी के लिए सबसे कम समय में इस उपलब्धि को हासिल करने में सक्षम रही है” उन्होंने कहा और शूलिनी अनुसंधान मंच के निर्माण के इस निरंतर प्रयास के लिए सभी शोधकर्ताओं को बधाई दी। वाईस कुलपति प्रो. अतुल खोसला ने यूनिवर्सिटी के शोधकर्ताओं और फैकल्टी मेंबर्स को बधाई दी, उन्होंने कहा कि कुछ साल पहले यह एक कठिन कार्य प्रतीत होता था, लेकिन “हमने इसे कम समय में पूरा किया”। उन्होंने इस सम्मान को हासिल करने के लिए शूलिनी के सभी शोधकर्ताओं की उनके समर्पण और कड़ी मेहनत की भी प्रशंसा की।

Leave a Reply

%d bloggers like this: