SAMNA NEWS

लंबित राजस्व मामलों को जल्द निपटाएं अधिकारी: उपायुक्त

धर्मशाला, 01 अप्रैल: उपायुक्त डॉ.निपुण जिंदल ने जिला के सभी राजस्व अधिकारियों को निर्देश दिये हैं कि लंबित विभिन्न राजस्व मामलों को जल्द निपटाया जाए, ताकि लोगों को किसी कठिनाई का सामना न करना पड़े। उपायुक्त आज शुक्रवार को उपायुक्त कार्यालय के सभागार में जिला कांगड़ा के राजस्व अधिकारियों की त्रैमासिक बैठक की अध्यक्षता करते हुए बोल रहे थे।
 

उपायुक्त ने कहा कि रोजमर्रा के जीवन में राजस्व मामले महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। तकसीम, इन्तकाल, निशानदेही इत्यादि के सम्बन्ध में लोगों को प्रतिदिन राजस्व अधिकारियों से मिलना पड़ता है। इसीलिए राजस्व अधिकारियों को निर्देश दिये गये हैं कि आम आदमी को इनसे सम्बन्धित विषयों में जल्द राहत प्रदान करने के प्रयास किए जाने चाहिए। उन्होंने कहा कि अधिकारियों को भूमि से सम्बन्धित विषयों को सप्ताहवार एवं दैनिक आधार पर निपटाने का प्रयास करना चाहिए।
 

उपायुक्त ने कहा कि उपमंडलाधिकारी सम्बन्धित उपमंडल में हर माह अधीनस्थ अधिकारियों व कर्मचारियों के साथ बैठक करें ताकि लम्बित मामलों को शीघ्रता से निपटाया जा सके। उन्होंने कहा कि राजस्व विभाग आम आदमी से सीधे तौर पर जुड़ा है और अधिकारियों को राजस्व कार्यों को प्राथमिकता देते हुए निर्धारित लक्ष्यों को समयबद्ध तरीके से पूरा करना चाहिए ताकि लोगों को अपने राजस्व से सम्बन्धित मामलो में त्वरित न्याय मिल सके।

उन्होंने कहा कि इससे जहां अधिकारियों की कार्यकुशलता बढ़ेगी, वहीं कार्यप्रणाली में पारदर्शिता आएगी। राजस्व अधिकारी राजस्व मामलों को निरंतरता के साथ निपटाने में व्यक्तिगत रूप से गंभीरतापूर्वक प्रयास करें। उन्होंने कहा कि जिन तहसीलों का राजस्व रिकार्ड आनलाइन नहीं हुआ है उसे प्राथमिकता के आधार पर पूर्ण करने के लिए कारगर कदम उठाए जाएं। उन्होंने कहा कि ई-समाधान क माध्यम से प्राप्त शिकायतों को निपटाने के लिए गंभीरता से प्रयास किये जाएं इसके लिए उपमंउल स्तर पर ही नियमित तौर पर मीटिंग भी आयोजित की जाए।
 

इससे पहले एडीएम रोहित राठौर ने मुख्यातिथि का स्वागत करते हुए राजस्व विभाग के विभिन्न कार्यों के बारे में विस्तार से जानकारी प्रदान की गई। इस अवसर पर एडीसी राहुल कुमार, कांगड़ा जिला के समस्त उपमंडलाधिकारी, तहसीलदार, नायब तहसीलदार, वरिष्ठ तकनीकी निदेशक एवं जिला सूचना-विज्ञान अधिकारी भूपिन्दर पाठक तथा तकनीकी निदेशक एवं अ0जिला सूचना विज्ञान अधिकारी अक्षय मेहता उपस्थित थे।

Leave a Reply

%d bloggers like this: