SAMNA NEWS

”मेरा पैड मेरा अधिकार“ परियोजना के अंतर्गत स्थापित की गई मशीन का शुभारंभ

ज़िला निर्वाचन अधिकारी एवं उपायुक्त सोलन कृतिका कुलहरी द्वारा आज नाबफ़ाउंडेशन (नाबार्ड के पूर्ण स्वामित्व वाली संस्था) के माध्यम से चलाए जाने वाली ”मेरा पैड मेरा अधिकार“ परियोजना के अंतर्गत स्थापित की गई मशीन का शुभारंभ किया गया। उन्होंने बताया कि ”मेरा पैड मेरा अधिकार“ परियोजना के अंतर्गत सोलन में लो कोस्ट सेनीटरी पैड मेकिंग मशीन स्तरोन्नत हुई है। कृतिका कुलहरी ने कहा कि परियोजना के अंतर्गत इंडियन काउंसिल ऑफ सोशल वेलफेयर, सोलन द्वारा संवर्धित सखी स्वयं सहायता समूह के द्वारा इस मशीन का संचालित की जाएगी, जिसके माध्यम से ग्रामीण व वंचित समाज की महिलाओं को सस्ती दरों पर सैनिटरि पैड उपलब्ध हो सकेंगे।


उन्होने कहा कि ‘मेरा पैड मेरा अधिकार’ परियोजना नाबार्ड की अनोखी विकासात्मक पहल है जिसके तहत ग्रामीण महिलाओं को स्वयं सेनीटरी पैड निर्माण करने का अधिकार देकर न केवल मासिक धर्म स्वच्छता को बढ़ावा मिलेगा बल्कि इससे अभाव में होने वाली समस्याओं व बीमारियों से बचा जा सकेगा। उन्होने कहा कि यह परियोजना महिला स्वास्थ्य की दिशा में महत्वपूर्ण कदम है। कृतिका कुलहरी ने कहा कि यह ऐसा विषय रहा है जिसके बारे में ग्रामीण परिवेश में खुलकर बात करना भी अभिशाप माना जाता रहा है। इस तरह के कदमों से महिला स्वास्थ्य के विषय में जागरूकता बढ़ाने में मदद मिलेगी। उन्होने कहा कि नाबार्ड के गठन के समय से ही केंद्र में ग्रामीण महिलाओं की उन्नति व आत्मनिर्भरता रही है एवं यह परियोजना इस दिशा में एक अहम कदम है। इस अवसर पर विशिष्ट अतिथि के तौर पर नाबफाउंडेशन, मुख्यालय, मुंबई से सहायक वाइस प्रेज़ीडेन्ट, सुधा वर्गीस भी उपस्थित रहीं।


 नाबफाउंडेशन द्वारा पूरे देश में इस तरह की परियोजनाएं क्रियान्वित की जा रही हैं एवं हिमाचल में सोलन जिले को इसके क्रियान्वयन हेतु चयनित किया गया था। इसके माध्यम से महिलाएं न केवल आत्मनिर्भर हो रही हैं बल्कि मासिक धर्म स्वच्छता में भी सुधार हो रहा है। उन्होने बताया कि परियोजना के तहत सोलन ज़िला में सखी स्वयं सहायता समूह का चयन कर उसे मशीन व कार्यशील पूंजी की सहायता दी गई है जिसके माध्यम से यह समूह अपना उद्यम स्थापित कर आजीविका से जुड़ेगा। पैड बनाने के लिए मशीन हेतु नाबफ़ाउंडेशन द्वारा शहनाज़ इंटरप्राइज, उदयपुर से टाईप अप किया गया है। मशीन को चलाने हेतु स्वयं सहायता समूह को प्रशिक्षण भी दिया गया एवं आज से उत्पादन शुरू किया जा चुका है।

नाबफाउंडेशन द्वारा प्रोत्साहन के तौर पर अच्छे प्रशिक्षुओं को सम्मानित भी किया गया। कृतिका कुलहरी ने इस अवसर पर महिलाओं को मतदान की महत्ता व मताधिकार का प्रयोग करने के लिए भी प्रोत्साहित किया गया।  इस अवसर पर ज़िला विकास प्रबन्धक नाबार्ड अशोक चौहान, इनरव्हील क्लब सोलन से मोनिका बंसल, रेणु शर्मा व आईसीएसडबल्यू सोलन से शांति देवी, सखी स्वयं सहायता समूह के सदस्य उपस्थित थे।

Leave a Reply

%d bloggers like this: