SAMNA NEWS

उपायुक्त कांगड़ा ने किया 47वीं नेशनल बास्केटबॉल सब जूनियर चैंपियनशिप का शुभारंभ

धर्मशाला, 15 नवम्बर। खेलों के माध्यम से युवाओं के सम्पूर्ण व्यक्तित्व का विकास सम्भव है। खेल शारीरिक बल देने के साथ साथ व्यक्ति को मानसिक और भावनात्मक रूप से भी स्वस्थ रखते हैं। उपायुक्त कांगड़ा  डॉ निपुण जिंदल ने आज नगर परिषद मैदान कांगड़ा में 47वीं नेशनल सब जूनियर बॉयज और गर्ल्स बास्केटबॉल चैंपियनशिप का शुभारंभ करते हुए यह शब्द कहे। प्रतियोगिता की शुरुआत करते हुए उन्होंने विभिन्न राज्यों से आए सभी खिलाड़ियों को खेल भावना से खेलने की शपथ दिलाई।

 बता दें कि कांगड़ा के नगर परिषद मैदान में आरंभ हुई 47वीं नेशनल बास्केटबॉल सब जूनियर बॉयज और गर्ल्स चैंपियनशिप 14 नवंबर से 21 नवंबर तक चलेगी, जिसमें विभिन्न राज्यों से आई हुई 51 टीमें हिस्सा ले रही हैं।डॉ. निपुण जिंदल ने कर्नाटक और तेलंगाना गर्ल्स टीम के बास्केटबॉल मैच को विधिवत शुरू करवाया और खिलाड़ियों का उत्साहवर्धन किया। उन्होंने कहा कि आज जितनी भी प्रकार की विसंगतियां युवाओं में उत्पन्न हो रही हैं, उनसे बचने का सबसे बेहतर विकल्प खेल ही हैं। उन्होंने कहा कि आज हर विद्यार्थी और युवा को खेल गतिविधियों, योग और व्यायाम को अपने जीवन का हिस्सा बनाना चाहिए।

उन्होंने कहा कि खेलों से जुड़े युवा अपने पारिवारिक और सामाजिक दायित्वों का निर्वहन भी बड़ी कुशलता से करते हैं। खेल हमे सकारात्मक रहते हुए कईं प्रकार की समस्याओं और संकटों ने निपटने का गुर सिखाते हैं। उन्होंने कहा कि खेलों के माध्यम से टीम भावना का जो गुण विकसित होता है उससे व्यक्ति कभी विषाद को उपलब्ध नहीं होता।उपायुक्त ने आए हुए खिलाड़ियों का हौंसला बढ़ाते हुए उन्हें प्रतियोगिता के लिये शुभकामनाएँ दी। इस अवसर पर हिमाचल प्रदेश बास्केटबॉल संघ के अध्यक्ष मुनीष शर्मा ने उपायुक्त का स्वागत किया गया। कार्यक्रम में जिला परिषद के अध्यक्ष रमेश बराड़, तहसीलदार कांगड़ा प्रवीण कुमार, व्यापार मंडल अध्यक्ष वेद प्रकाश शर्मा, पार्षद प्रेम सागर, हिमाचल प्रदेश बास्केटबॉल महासचिव अजय, बास्केटबॉल इंडिया फेडरेशन के पदाधिकारियों में करुण शर्मा, हरीश कुमार, पवन कुमार और कुनाल आदि मौके पर मौजूद रहे।


स्ट्रॉंग रूम की सुरक्षा व्यवस्था को जाँचा

कार्यक्रम उपरांत उपायुक्त ने कांगड़ा उपमण्डल मुख्यालय में स्ट्रॉंग रूम की सुरक्षा व्यवस्था को जाँचा। उन्होंने बताया कि जिले में विधानसभा चुनावों के मतदान के बाद ईवीएम को कड़े पहरे में संबंधित उपमंडल मुख्यालय  पर बनाए स्ट्रांग रुम में रखा गया है। उन्होंने बताया कि ज़िले में स्ट्रॉंग रूम की सुरक्षा के लिए बहु स्तरीय व्यवस्था विकसित की गई है। उन्होंने कहा कि भारतीय चुनाव आयोग के निर्देश अनुसार ज़िले में ईवीएम मशीनों को कड़ी निगरानी में रखा गया है। उन्होंने कहा कि केंद्रीय अर्ध सैनिक बल और पुलिस जवान 24 घंटे ईवीएम की कड़ी पहरेदारी पर तैनात हैं। इसके अलावा सीसीटीवी कैमरों से भी 24 घंटे निगरानी की जा रही है।

Leave a Reply

%d bloggers like this: